Home राजनीति पुलिस के पहरे के बावजूद सपा नेताओं ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

पुलिस के पहरे के बावजूद सपा नेताओं ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

209
0
blank

 

पुलिस के पहरे के बावजूद सपा नेताओं ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

बलरामपुर। जिले में समाजवादी पार्टी द्वारा प्रस्तावित कार्यक्रम उतरौला रोड पर बजाज चीनी मिल इटई मैदा में पूर्व मंत्री डॉ एसपी यादव के अगुवाई में होना था, लेकिन इससे पूर्व ही पुलिस ने रविवार को पूर्व मंत्री सहित सपा कार्यकताओं को उनके आवास पर ही नजर बंद कर दिया गया। बता दे की बजाज चीनी मिल इटई मैदा द्वारा गन्ना किसानों का करोड़ो रूपये बकाया भुगतान कराने व कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों के समर्थन में शामिल होने से पूर्व ही स्थानीय प्रशासन ने समाजवादी पार्टी के पूर्व मंत्री डॉ एसपी यादव, जिलाध्यक्ष राम निवास मौर्या, सपा नेता व जिला पंचायत सदस्य डॉ भानू त्रिपाठी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष राकेश यादव सहित सैकड़ो कार्यकताओं व पदाधिकारियों को उनके आवास पर पुलिस प्रशासन ने नजर बंद कर दिया। वही जिले के विभिन्न स्थानो पर भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया।

नजर बंद होने के बाद सपा नेता डॉ भानू त्रिपाठी ने कहा कि किसानों की समस्याओं व गन्ना किसानों के बकाया भुगतान के सम्बंध में इटईमैदा में बजाज चीनी मिल पर धरना प्रदर्शन कार्यक्रम प्रतावित था लेकिन प्रदेश की तानाशाही सरकार के नौकरशाही द्वारा सपा कार्यकर्ताओं की आवाज को दबाने के लिए तीसरी बार नजरबंद किया गया है भाजपा सरकार सपाईयों से डर रही है कि जनता की बात को राज्यपाल राष्ट्रपति व आम जनमानस तक न पहुँचा सके। इसलिए भाजपा सरकार पुलिस के बल पर सपा कार्यकर्ताओं को नजर बंद करके उनका उत्पीड़न कर रही है। सपा नेता ने कहा कि चाहे जितनी बार सपा कार्यकर्ताओं को नजरबंद कर दीजिए लेकिन उनका हौसला कम नहीं होगा और आने वाले 2022 के चुनाव में अखिलेश यादव के नेतृत्व में सरकार बनेगी। और इस दमनकारी सरकार को उखाड़ फेंका जाएगा।

समाजवादी पार्टी से रहे पूर्व विधायक मशहूद खान व सपा नेता राजेश्वर मिश्रा भी बजाज चीनी मिल इटई मैदा पर धरना प्रदर्शन करने जा रहे थे कि रास्ते मे ही सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने ही रोक लिया। मौके पर पहुँचे सदर एसडीएम व उतरौला एसडीएम को पूर्व विधायक व सपा नेताओं ने ज्ञापन सौंपा।
सपा नेता राजेश्वर मिश्रा ने कहा कि प्रदेश की योगी सरकार किसानों को पूंजीपतियों के हवाले कर रही है, सभी समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता शांतिपूर्ण ढंग से किसानों के बकाया भुगतान व समस्याओं को लेकर धरना प्रदर्शन करने जा रहे थे लेकिन इस अहंकारी सरकार के नौकरशाहों द्वारा आवाज दबाने की कोशिश की जा रही है, उन्होंने कहा कि प्रशासन पुलिस के बल पर जो रवैया अपना रही हैं उससे सपा कार्यकर्ताओं का हौसला टूटने वाला नहीं है।

patrika-newz-mobile-app