Home शिक्षा डिवाइन पब्लिक स्कूल उठाएगा निराश्रित बच्चों की शिक्षा का खर्च

डिवाइन पब्लिक स्कूल उठाएगा निराश्रित बच्चों की शिक्षा का खर्च

329
0
blank

डिवाइन पब्लिक स्कूल उठाएगा निराश्रित बच्चों की शिक्षा का खर्च

डिवाइन पब्लिक स्कूल की पहल, अनाथ बच्चो को मिलेगी मुफ्त शिक्षा

बलरामपुर। कोरोना ने काल के दौरान एक तरफ जहां निजी स्कूलों पर अभिभावकों से फीस लेने का आरोप लगा वहीं दूसरी तरफ कुछ स्कूल ऐसे भी स्कूल हैं जिन्होंने अभिभावकों को राहत देने का काम किया। इन स्कूलों ने तय किया कि अभिभावकों से पूरे साल की फीस नहीं ली जाएगी बल्कि बच्चों की ऑनलाइन कक्षाएं भी अनवरत चलती रहेंगी। बलरामपुर जिले में भी एक ऐसा ही स्कूल है जिसमें मानवता के मॉडल पर खुद को खरा उतारने का काम किया है।

बलरामपुर नगर क्षेत्र के सिटी पैलेस के निकट स्थित “डिवाइन पब्लिक स्कूल” ने पिछले कोरोना महामारी के दौरान लागू हुए लॉकडाउन में न केवल पूरे 1 साल की फीस माफ कर दी थी बल्कि इस बार भी इस स्कूल ने कुछ इसी तरह का प्रयास किया है। स्कूल प्रबंधन द्वारा आयोजित एक प्रेस वार्ता में आज बताया गया कि कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों की जहां तक मेरी स्कूल की मान्यता है मुफ्त पढ़ाई करवाई जाएगी। इस दौरान बच्चों को किताब कॉपी ड्रेस इत्यादि की सुविधाओं का खर्च भी स्कूल प्रबंधन ही वहन करेगा।

डिवाइन पब्लिक स्कूल के प्रबंधक आशीष उपाध्याय ने प्रेस वार्ता के दौरान जानकारी देते हुए बताया कि पिछले वर्ष कोरोना काल के दौरान डिवाइन पब्लिक स्कूल ने तकरीबन 64 लाख की फीस माफ की थी। इसमे पहले चरण में स्कूल द्वारा 6 महीने की फीस लगभग 34 लाख रुपये माफ की गई, जबकि दूसरे चरण में 6 महीने की फीस लगभग 30 लाख रुपये और माफ कर दी थी। इस दौरान ऑनलाइन माध्यम से बच्चों की पढ़ाई करवाई जाती रही व अन्य जो भी सुविधाएं स्कूल प्रशासन बच्चों को दे सकता था वह भी देता रहा। वहीं विद्यालय में काम करने वाले शिक्षकों व अन्य कर्मचारियों के जीवन यापन में किसी तरह की दिक्कत न हो उन्हें भी उनकी तन्ख्वाह दी जाती रही।

डिवाइन पब्लिक स्कूल के प्रबंधक आशीष उपाध्याय बताते हैं कि बलरामपुर जिले में काफी संख्या में ऐसे बच्चे सामने आए हैं जिनके माता पिता का कोविड-19 के कारण देहांत हो गया है। कोविड-19 के कारण अनाथ हुए ऐसे बच्चों की पढ़ाई का पूरा खर्च स्कूल प्रबंधन वहन करेगा उन्होंने कहा कि हम इस तरह नहीं है कि हम 1 या 2 साल की पढ़ाई उन अनाथ बच्चों की करवाएंगे बल्कि हम उन बच्चों को जितनी कक्षाओं तक हमारे स्कूल की मान्यता है वहां तक मुफ्त पढ़ाएंगे और आगे यदि हमारी मान्यता बढ़ती है तो हम उन कक्षाओं में भी ऐसे बच्चों को मुफ्त शिक्षा देंगे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों का पढ़ाई के दौरान लगने वाला किताब कॉपी ड्रेस स्कूल बैग व स्कूल वाहन का खर्चा डिवाइन पब्लिक स्कूल उठाएगा उन्होंने बताया कि हमने इसकी सूचना जिला प्रशासन को भी दे दी है जिससे यदि कहीं जिला प्रशासन को इस तरह की कोई सूचना मिलती है तो वह हमें अवगत कराएं हम ऐसे अनाथ बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने का काम करेंगे। इस दौरान रूपम मिश्रा, सुमन मिश्रा, कृष्णा गुप्ता, जूही पांडेय, शुभम श्रीवास्तव, कल्पना सिंह, मोहिता सिंह, सौम्या ओझा, तृप्ति सिंह व सरोज उपाध्याय मौजूद रहीं।

patrika-newz-mobile-app